औरंगाबाद, पवित्र बंधन ग्रुप की ५ वर्षोंकी यशस्वी घोडदौड कायम  पवित्र बंधन गृप का आज छटा वर्धापन

0
166

आरोग्य दूत न्यूज
संपादक, एन एस भुरे ( पाचोरा )

पवित्र बंधन ग्रुप की ५ वर्षोंकी यशस्वी घोडदौड कायम
 पवित्र बंधन गृप का आज छटा वर्धापन

औरंगाबाद के श्री दिलीपजी अग्रवाल साखरखेडा वाले द्वारा स्थापित अग्रवाल समाज का “पवित्र बंधन ग्रुप” को आज 12 मार्च पूरे 5 साल पूर्ण हो गए हैंं व आज 6 वे साल  मे पदार्पण  कर रहा हैंं। ईस ग्रुप की स्थापना 12 मार्च 2016 को की गई थी।
अग्रवाल समाज के लिये शादी के लिये पवित्र बंधन ग्रुप के नाम से  बायोडाटा ग्रुप निशुल्क चलाया जा रहा है।पिछले 5 सालो मे करीब 1000 के आसपास संबंध हो चुके हैं ये वो है जो लोगों ने फोटो भेज कर सुचित किया। करीबन ईतने हि संबध और  हुऐ जो लोगोने  सुचीत न करते हुये ग्रुप को छोड दिया। करोना काल मे करीब 250 के आसपास संबंध हुये।जनवरी 2021 माह मे 25 व फरवरी माह मे  28 संबंध हुये है।   । ईस ग्रुप मे आज मुख्य रूप से महाराष्ट, छत्तीसगढ़ व मध्यप्रदेश के करिब 1400 लोग जुड़ कर लाभ ऊठा रहे है व अन्य प्रदेशो से भी ग्रूप् मे जुड़ने के लिए फोन आ रहे हैं।   ईसके 7 ग्रुप कार्यरत हैं। ईसमे  लोग  जुडते रहते रहते है व ऊतने हि लोग संबंध जुडने पर ग्रुप से विदा  लेते है। सभी एडमीन निस्वार्थ भाव से सेवा दे रहे हैं।  एडमीन द्वारा पवित्र बंधन के एक ग्रुप से पवित्र बंधन के दुसरे ग्रुप मे रोजाना बायोडाटा सेयर किये जाते हैं ताकी आपका बायोडाटा 1400 लोगो तक पहुँच सके। हर दिन तय कि गई कैटेगरी के अनुसार बायोडाटा पोस्ट होते हैं, जैसे Dr., CA, CS, MBA, Graduate, Metric, Widow and Divercy. मन चाहा जिवन साथि घर बैठै ढुँढ सकते है। ईस ग्रुप द्वारा 5 सफल परिचय सम्मेलनों का आयोजन किया जा चुका है। पिछले साल मार्च मे औरंगाबाद मे आयोजीत 6 वे परीचय सम्मेलन  को करोना के कारण रद्द करना पढा। करोना काल मे अब यही एक माध्यम बचा है जिसके द्वारा संबंध के बारे मेँ पता चल रहा है व आधुनिक संचार माध्यम का प्रयोग कर लडके ,लडकी व  अभीवायक एक दुसरोको  देखकर संबंध जोडने मे मदद हो रही है। आज हमारे एडमीनो की निस्वार्थ सेवा से ग्रुप ने  ये ऊचाई प्राप्त की है। पिछले दो माह मे करीबन 150 नये सदस्य जुडे है। ईस ऊचाई पर पहुचानें मे हमारे पुराने एडमीन श्रीं अनीलजी अग्रवाल  नंदुरबार, श्रीमती स्वीटी अग्रवाल  पुना व श्री दिनेश जी अग्रवाल परभणी का भी योगदान हम भुला नही सकते।